टिक -टिक करतीं घड़ियाँ ..

279
Vibha Pathak

ढ़लती साँझ जब
निशा की गोद में
प्रश्रय लेती है
अपनी तिमिरता का
आकार बढ़ा लेती है
घिरतीं हैं तब दूरतलक
निस्तब्धता ,तन्हाइयां
अनचाही आवाज़े, झींगुरों की छाँय-छाँय,
उल्लूओं की धतकर ,सहमी -डरी हवाएं
इन्हीं हवाओं की सरसराहट में,
रात्रि के आहट में,
बस एक स्वर सुनाई देता ,
हौले से कानों में कुछ कह जाता
बहुत करीब से मानो कोई
चिर परिचित अपना
एक ही धुन में ,एक ही लय में
अविरल रहने का ,अथक चलने का
निरंतरता बनायें रखने का चिर संदेश देतीं
टिक-टिक करतीं समय का भान करातीं
ये घड़ियां हमारीं …….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here