कभी यूंही अचानक

338

कभी यूंही अचानक
ख्वाबों की जादुई गुफा में जाना
वहां से बीन लाना कुछ जादुई पत्त्थर
जिनमे आंखो में चमक भर देने का
होंठों के कोनों को खींच देने का
अविलक्षण जादू हो ;
फिर तुम उसे किसी किसी दिन दिखाना
जब तुम कुछ उदास हो
या जब भूल जाओ तुम
उस ख्वाबों की जादुई दुनिया को
जब तुम्हें अपना मन खाली लगने लगे
या फिर जब विश्वास की भीड़ छंटने लगे,
तब दिखाना तुम वो जादू,
धीरे से अन्तर्मन का पिटारा खोलना
जैसे ही निराशा की पलकें झपकें
तुम कुछ मंत्र बुदबुदाना
और इन सब सपनों के ढेर पर फूंक देना
ताकि सारे सपने गुलाबी आसमान के कबूतर बन जाएं
और फिर उसी आसमान में ओझल हो जाएं
जिन्हे निहारते रहो तुम उस जादू में नजरबंद होकर
और हां…उस जादुई पत्त्थर को एक नाम देना..”उम्मीद”

:- महिमा पाण्डेय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here