किसी खोई हुई सदी की खोज

276

दो ध्रुव हैं
आत्मा के सुदूर इलाकों में

जहां सदियों की बंजर भूमि में
उगने वाले पौधे
पीड़ा के प्यासे है

और ग्रहण नहीं करते कभी
भीड़ से टकराकर आता हुआ प्रकाश
जिन्हे सबसे अधिक प्रिय हैं
एकाकीपन की कोठरियों के पागल अंधियारे

जहां दरिया की प्यासी लहरें दौड़ती है
पाने को वह छवि
जो सदियों पहले किसी मरुस्थल में
दफ्न कर दी गईं
किंतु स्वप्नों के जटिल जाल में जो है जीवित अब तक

तुम्हारे मार्ग के आरंभ से भी बहुत दूर
ये ध्रुव
रोज तय करते हैं प्रथ्वी के अंत तक की दूरी
यह जानते हुए , हां है ज्ञात बहुत कुछ
कि यह खोज वहां कि जहां तुम नहीं हो
या कि तुम्हारी स्मृतीयों का बोझ

  • मौसम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here