प्यास कितनी लगी है..

61

Vibha Pathak
प्यास कितनी लगी है
आँख में पानी है जितना
उतनी लगी है
हाथ पर रक्खे मूल्य जितनी लगी है
चार कदम दम भर चल लूँ
उतनी लगी है
सूखते कंठ कुछ कह पाए
तर हो जाये उतनी लगी है
धधकती मृग तृष्णा बुझ जाए
उतनी लगी है
आंखों से खारे पानी का स्वाद मिटा दे
उतनी लगी है
हया शील की नमी रह जाए
उतनी लगी है
ममता से सरावोर रह जाए
उतनी लगी है
द्रवितों को देख द्रवित हो जाए
उतनी लगी है
मानवता पसीझ जाए
उतनी लगी है
कृतघ्न न हो जाए
उतनी लगी है
अपनत्व का अंकुरण हो जाए
उतनी लगी
तड़पता हृदय ठंडा हो जाए
उतनी लगी है
अंजुरी भर-भर जितनी पी जाए
उतनी लगी है
गहरे कूप से जितना निकल जाए
उतनी लगी है
क्योंकि
प्यास बुझने से अधिक पाने पर
उसकी कीमत घटी है
जितनी कीमत रही है
उतनी प्यास बढ़ी है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here