प्यारी धूप

349
Vibha Pathak

धूप बहुत प्यारी लगती है
कड़क चाय की प्याली लगती है
खोलती है आंखें नई ऊर्जा देने लगती है
आती जब देहरी पर स्वर्णिमा भरने लगती है
सोये हुए अरमानों को पुनः जगाने लगती है
दशों -दिशाओं में फैले अंधकार को निगलने लगती है
हर अंश आत्मा में चेतना का स्वांस भरने लगती है
चराचर जगत के पहियों को अविरल गति देने लगती है
सृष्टि में सरसजीवन का अलौकिक आनंद भरने लगती है
जेठ की भरी दोपहरी में खुद का दर्द भूलने लगती है
पलाश के फ़ूलों में सुर्ख़ लाल रंग भरने लगती है
जिजीविषा देती थके कदमों को साहस भरने लगती है
लेक़िन क्यों?

यही धूप ! जब ऋतु बदल नव चटक रूप में आती है
तब ना जाने क्यों पुराने दिनों सी भुलायी जाती है
स्वयं तिरस्कृत होती अस्तित्व को ढूंढने लगती है
ना जाने क्यों अंदर ही अंदर अंतर्मन को
यही बातें चुभने लगती है कुरेदने लगती है
कुछ सवाल करती मन -ही मन कचोटने लगती है
मतलब परस्त खुदगर्ज़ जहाँ की ये बात नहीं अच्छी लगती है
धूप बहुत प्यारी लगती है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here