कितना प्रेम

53

Vibha Pathak
कितना प्रेम करना चाहिए

एक प्रेम को सिद्ध करने के लिए
कितना अर्पण करना चाहिए
एक समर्पण की मर्यादा के लिए
कितना तड़पना चाहिए
एक क्षुधा की तृप्ति के लिए
कितना क़दम बढ़ाना चाहिए
एक महत्वाकांक्षी  के लिए
कितनी कड़वाहट निगलनी चाहिए
एक सोम के लिए
क्या ?मीरा बन बिषपायी बने
या सीता बन दें अग्निपरीक्षा
गर इतने से भी प्रेम की
परीक्षा हो जाती तो कोई
आश्चर्य की बात नही
किन्तु इतना होने के उपरांत भी
गर प्रेम पर प्रश्नचिन्ह ?लगे तो
निश्चय ही प्रेम का वास्तविक रुप
अंधकारमय कूप मंडूप है
— विभा पाठक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here