इंसाफ़ करो

340

टिमटिमाती रोशनी लेकर
जश्ने चराग़ा क्यों मनाते हो
औरत की आबरू वो थी
लगा दी आग लंका को
महाभारत भी ना होता
जो द्रौप्दी पे ना बन आती
ज़रा तारीख़ से सीखो
ये वही हिन्दोस्ताँ तो है
अफ़सोस करने वालों पर तो
अब अफ़सोस होता है
क्या औरत सिर्फ़ रहम के काबिल है
वक्त भी देते हो वकील भी
बहस और सुबूत की आड़ में
बरसो फैसले का इंतज़ार
न ज़ानी की सिरपरस्ती होती
ना हौसले बुलंद होते
ऐ वक़्त के हाकिमों इंसाफ़ करो
इंसाफ़ करो
इंसाफ़ करो

  • उरूसा नज़र

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here