जब तक नमी हैं…

266

[avatar user=”vibha” size=”98″ align=”left”]Vibha Pathak[/avatar]जब तक नमी हैं
कैसे कहूँ
पानी नहीं हैं
हवाएं जब तक
बहती हैं
कैसे कहूँ
साँसे ज़िंदा नहीं हैं
मर चुकी है भूख
पर माँ ने हाथों से
ठोक रोटी सेंकी है
कैसे कहूँ
अब भूख नहीं है
ढूंढता है चाँद चाँदनी को
सूरज की लाल बिंदी में
कैसे कहूँ
श्रींगार नहीं है
देखा है पीठ पे लदे बच्चों को
मेले में खुशियाँ बटोरते
कैसे कहूँ
फर्ज़ की स्तम्भ नहीं है
साँझ ढले खेल कर
धूल धुरषित थक
माँ से लिपट जाते बच्चे
कैसे कहूँ
ममता की डाली नहीं है
कितना भी छुपाऊं
हर सुख दुख की गट्ठर को
माथे पर पड़े हर सिलवटों को
अपने जान जाते हैं
कैसे कहूँ
प्रणय का दर्पण नहीं हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here