अंधेरे में…

512

अरसे का इक दर्द लम्हे लम्हे में बांट रहे हैं
हम ये किसके गुनाहों की सजा काट रहे हैं

हमे तो समंदर भर प्यार मिला था विरासत में
नई आँखों में खुन है अब,लोग ये क्या बांट रहे हैं.

हमने मुफलिसी से इल्म सीखकर गुनाह कर दिया
हम भूखे है अपने हिस्से की रोटियाँ बाँट रहे हैं.

सुना है वो इसी रास्ते निगाहें करके गुजरेंगे
हम मुट्ठी भर जुगनू लेकर उजाला बांट रहे हैं.

 

=> मौसम राजपूत 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here