अपने लिये

459
vibha pathak

अपने लिये
जियें तो क्या जियें
ग़ैरों के लिये जियें तो जाने
अपने आँगन
फूल खिलायें तो क्या खिलायें
कुछ सूने आँगन
फूल खिलातें तो जाने
निज संताप
मिटाएँ तो क्या मिटाये
पर-संताप मिटाते तो जाने
अपने अश्रु पोछें तो क्या पोछें
ग़ैरों के पोछों तो जाने
अपने लिए दुआओं के
हाथ उठें तो क्या उठें
दूसरों के लिए उठतें तो जाने
अपनों को अपना बनाये तो क्या बनायें
अज़नबी को अपना बनाते तो जाने

  •  विभा पाठक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here