कुछ नया करते हैं

621

चलो फिर से कुछ नया करते हैं। Stay Home Stay Safe में, अपनों से घर बैठे मुलाकात करते हैं। कुछ अपनी और कुछ उनकी अनकही सुनते हैं।

सुना था वक्त नहीं था हमारे पास ख़ुद के लिए, चलो फिर से इस वक़्त का इस्तेमाल करते हैं। अपने लिए और कुछ अपनों के लिए इस कोरोना की लड़ाई मे सरकार का साथ देते हैं|

सोशल डिसटेंसिग अपनाते हुए सब का आभार व्यक्त करते हैं। चलो फिर से कुछ नया करते हैं। फिर से तराशते हैं खुद को, अपनी ख्वाहिशों को इस वक्त में पूरा करते हैं।

शायद यह वक्त फिर मिले ना मिले इस भागदौड़ जिंदगी में ,इसलिए अपने घरों में रहकर अपनों संग लमहे बिताते हैं।”

  •  सुकर्णा कटियार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here