आज फिर कुछ टूटा..

92
Prachi Dwivedi
आज फिर कुछ टूटा है मन की दीवारों से टकराकर ,
फिर एक चुभन हुई और इन आंखों ने ही साथ दिया है;
आंसुओं को बहा कर
लफ़्ज़ों ने फिर से खामोशी का साथ दिया,
उन टूटी दीवारों के सैलाब ने आंखों से रास्ता मांग लिया ;
वक्त का पहिया उन टुकड़ों को सैलाब में बहा ले जाएगा और फिर से चोट खाने के लिए दीवारों पर मरहम लगाएगा ;
चोटें भी भर जाएगी, सैलाब भी थम जाएगा और एक बार फिर से लफ्ज़ खामोशी का दामन छोड़ेंगे शायद फिर से एक चुभन के इंतजार में…..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here