शाम

247
Mohini Tiwari

सूरज के घोड़े सोने चले
नारंगी छटा में नहाया गगन
शाखों ने ओढ़ी काली चुनरिया
सरोवर के तट पर मचलती पवन
झिलमिल सितारों की अविरल लड़ी
चंदा की किरणें जो जल पर पड़ी
जुगनू की जग-मग से रौशन चमन
मदमाते नैयनों से झरता अमन
थके-क्लांत पंछी प्रणय गीत गाएं
छवि प्रियतमा की हृदय में समाए
शीश महल में छलकता जाम
देखो, सुबह से हो गई शाम….।

मोहिनी तिवारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here