संघर्ष

331
Seema Shukla

संघर्ष है ये ,औ,जीवन है .
मैंने ,है जाना दोनों ही को ,
जब ‘संघ’ है तब’ घर्ष’ है…
जब हैं पृथक, एकाकी, एकांत ,
तब है चाह संघ की ..
कुछ – कुछ घर्ष की,
घर्ष की ये स्फुलिंग …
है मानक स्पन्दन का ,
स्पंदन है, तो जीवन है ..
जीवन है…. तो ‘संघ’ है… , ‘घर्ष है ‘
संघर्ष .है …..।

  • सीमा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here