कफन में….

476

ये मुस्तकिल नहीं खुश्बूएं जो तेरे बदन में लगी हैं
उस गर्द का क्या होगा जो तेरे जहन में लगी है

खबर नहीं के हुकूमत काट ले गई पतंग ए असबाब
सारी कौमें अभी धागे की उलझन में लगी हैं

अभी तक महकती है ख़ाक रोशन है मकबरा मेरा
अब तक तेरे हाथ की मेहंदी मेरे कफन में लगी है

तेरी प्यास को तवज्जो देना न देना आवाम के हक़ में है
पहले बुझा आग जो तेरे हाथों वतन में लगी है

=> मौसम राजपूत 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here