* प्रवासी *

580

 

पुरवाई को चीर हौले से विहंसती
कोहरे की कंबल ओढ़े
अरुणा तन पर,
दिग सखी, विहंग व्रन्द संग,
लख, द्युति नवयौवना रूप अलसाई,
नवगीत नवीन कुसुम दल स्वर माला,
बुनती क्षितिज को सुनाती सहर्ष,
अंजुरी में स्वर्ण विभा सहेजे सहज
सजल नयन अपरिचित रूप उत्सुक से,
खेतों को, उपवन को जगाती
जा रही है
दूर देश,
कन्या गडरिए की l.

~ मौसम ~

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here