दोस्ती

565
Seema Shukla

दोस्ती वह..
जो आत्मा से जी जाए ,
बरसों बाद भी,
कल की ही बात की जाए।
जो यादों में ना बसे,
हर कदम पर साथ चले।
जिससे बाते,
लफ्जों में नही,
एहसास से हो।
जो कयामत में भी,
सुकून की साँस दे जाए।
जो इतनी खास हो,
कि उस से बढ़कर ..
कुछ भी नहीं।
जो इतने पास हो,
कि अपनी धड़कन भी,
दूर से सुनाई दे जाए।
तेरा शुक्र है खुदा.!!
तूने मुझे ..
इस एहसास से नवाजा़ ।।

4 COMMENTS

  1. Hello, i read your blog from time to time and i own a similar one and i was just wondering if you get a lot of spam comments? If so how do you stop it, any plugin or anything you can suggest? I get so much lately it’s driving me crazy so any assistance is very much appreciated.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here