*🏁 बेसिक शिक्षा के ध्वजवाहक 🏁*

822

(बेसिक – शिक्षकों हेतु प्रेरक गीत)

नित नयी इबारत लिखते हैं,
नवज्ञान की गाथा रचते हैं,
बेसिक शिक्षा के ध्वजवाहक,
हम मील के पत्थर गढ़ते हैं।

बुनियादों के हैं हम प्रहरी,
बाधाएँ जितनी हों गहरी,
हर छात्र स्वनिर्भर हो जाए,
हम भरसक कोशिश करते हैं।

सेवा है कारोबार नहीं,
शिक्षा कोई व्यापार नहीं,
धन-मान की चाह नहीं हमको,
शिष्यों की खातिर जीते हैं।

है जोश भरा – उल्लास भरा,
हर कदम में है विश्वास भरा,
जन-जन तक शिक्षा पहुँचेगी,
यह स्वप्न लिए हम बढ़ते हैं।

हाँ गुरुओं में है इतना दम,
हर लेंगे सारे जग का तम,
रचनात्मक सृजनशीलता से,
दुष्कर को सम्भव करते हैं।।
~सन्त कुमार दीक्षित~

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here