*** एक किरण ***

459

कभी निराशा का
घनघोर बादल छाए…
कुछ नजर ना आए…
हताश ना होना,
उदास ना होना…
बस दिखाना-
एक किरण
उम्मीद की
जो हर तम को
मिटाए….l

~ पूजा पाराशर ~

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here